मंगलवार, 6 सितंबर 2022

पाटन जिले के बारे में जानकारी हिंदी में : विशेषता, पर्वत, क्षेत्रफल, तालाब/झील, रेलवे स्टेशन ...

पाटन जिले के बारे में जानकारी हिंदी में : विशेषता, पर्वत, क्षेत्रफल, तालाब/झील, रेलवे स्टेशन ...

कोयला पाटन का इतिहास पाटन का अर्थ पाटण कहाँ है पाटन कितना किलोमीटर है पाटन का युद्ध

 पाटन जिले के बारे में जानकारी हिंदी में 



जिले की संरचना : ई. एस। 2000 में बनासकांठा और मेहसाणा जिलों से पाटन जिले का गठन किया गया था।


स्थान और सीमा: पाटन जिले की सीमा उत्तर में बनासकांठा जिले, पूर्व में मेहसाणा जिले, दक्षिण में सुरेंद्रनगर जिले और कच्छ के ग्रेटर रेगिस्तान और पश्चिम में कच्छ जिले के कच्छ जिले के छोटे रेगिस्तान से लगती है।


क्षेत्रफल (वर्ग किमी में) : 5730


तालुका (कुल 09): (1) पाटन (2) संथालपुर (3) राधनपुर (4) सामी (5) चांसमा (6) हरिज (7) सिद्धपुर (8) शंखेश्वर और (9) सरस्वती (तालुका मुख्यालय: आधार) )


विशेषता:

  • (1) चावड़ा युग, सोलंकी युग, वाघेला वंश, दिल्ली सल्तनत और गुजरात की स्वतंत्र सल्तनतों के दौरान 'पाटन' गुजरात की राजधानी बना रहा।
  • (2) वनराज चावड़ा ने अपने मित्र अनहिल भरवाड़ की मदद से राज्य वापस पा लिया और पाटन को बसाने में मदद की। इसलिए उनके नाम पर शहर का नाम 'अनहिलपुर पाटन' रखा गया।
  • (3) प्रबंधचिंतामणि के अनुसार, 'अनहिलपुर पाटन' की स्थापना की गई और विक्रम संवत 802 (28 मार्च, 746) के वैशाख सूद III के सोमवा 2 पर वनराज चावड़ा को विराजमान किया गया।
  • (4) गुजरात का पहला बैच बायोगैस संयंत्र 'मेथन' में स्थापित किया गया था।
  • (5) मीथेन में सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करने के बाद मेथन सौर ऊर्जा से रात्रि प्रकाश प्राप्त करने वाला भारत का पहला गाँव बन गया।
  • (6) बनास और सरस्वती नदी के बीच के क्षेत्र को 'वडियार' कहा जाता है। यहां 'धियारी भेंस' और 'कांकरेजी गाय' प्रसिद्ध हैं।
  • (7) गुजरात का सबसे बड़ा और पहला सोलर पार्क 'सूर्यतीर्थ' 'चरंका' गांव में है।


  • कुल जनसंख्या : 13,42,746
  • कुल गांव : 521
  • कुल पुरुष जनसंख्या : 6,94,062
  • कुल महिला जनसंख्या: 6,48,684
  • लिंग अनुपात (प्रति 1000 पुरुषों पर महिलाएं): 935
  • शहरी जाति अनुपात : 923
  • ग्रामीण जाति अनुपात: 938
  • शिशु जाति अनुपात: 884
  • शहरी शिशु जाति अनुपात : 861
  • ग्रामण शिशु जाति अनुपात : 889
  • जनसंख्या घनत्व (व्यक्ति प्रति वर्ग किमी) : 234
  • कुल साक्षरता : 73.47 प्रतिशत
  • पुरुष साक्षरता: 84.28 प्रतिशत
  • महिला साक्षरता: 62.01 प्रतिशत
  • शहरी साक्षरता: 84.26 प्रतिशत
  •  ग्रामीण साक्षरता: 70.51 प्रतिशत


नदियाँ: (1) बनास (2) सरस्वती (3) रूपेन (4) पुष्पावती (5) उमरदासी और (6) अर्जुनी


नदी के किनारे के शहर: पाटन, सिद्धपुर (सरस्वती नदी)


फसलें : (1) ईसबगुल यहाँ सबसे अधिक खेती की जाती है। (2) इसके अलावा जीरा, बाजरा, शर्बत, गेहूँ, आलू, सौंफ, अरंडी, तिल आदि भी उगाए जाते हैं।


उद्योग : (1) पटोला बनाने का उद्योग पाटन में विकसित हुआ है। (2) मशरूम का कपड़ा कृत्रिम रेशम और धागे का उपयोग करके बनाया जाता है। यहां मशरूम कारीगरों की सहकारी समिति है। (3) पाटन में निखाब उद्योग का विकास हुआ है।


राष्ट्रीय राजमार्ग: राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 27 और 68 (नया) इस जिले से होकर गुजरते हैं।


महत्वपूर्ण रेलवे स्टेशन: पाटन, सिद्धपुर, राधनपुर आदि स्टेशन: रानीकी स्टेशन, पाटन


तालाब/झील : (1) बिंदु सरोवर, सिद्धपुर (2) सहस्रलिंग झील, पाटन (3) खान सरोवर, पाटन (4) अल्पा सरोवर, सिद्धपुर (5) सिद्धसर झील, सिद्धपुर


विश्वविद्यालय: हेमचंद्राचार्य उत्तर गुजरात विश्वविद्यालय, पटना


पुस्तकालय: (1) श्री हेमचंद्राचार्य जैन ज्ञानमंदिर पुस्तकालय, पंचसरानी के पास, पाटन (2) विमल गच्छ जैन पुस्तकालय, भाभानो पाडो, पाटन


लोक मेला : (1) पाटन में सरस्वती नदी के तट पर कार्तिक मास की पूर्णिमा को कात्यायोक मेला लगता है। इसमें ऊंटों का व्यापार होता है। (2) महा सूद अथम के दिन वाराणसी में खोदियार माता के मंदिर में मेला लगता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें